Halaman

    Social Items

What is Holi Festival ?

What is Holi Festival ?

एक ही तरह का जीवन जीते जीते व्यक्ति उब जाता है। इसके लिए समाज ने अनेक त्योहारों वह मेंलों की व्यवस्था की है। हमारे देश में सभी धर्मों को मानने वाले लोग रहते हैं। सभी के अपने-अपने त्योहार हैं। हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में होली का महत्वपूर्ण स्थान है।

होली मनाने का कारण : होली का त्योहार फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। बसंत ऋतु के आगमन से चारों ओर वातावरण सुंदर हो जाता है। खेतों में फसलें पकने के लिए तैयार हो जाती हैं। किसान फसलों को देखकर खुश हो उठता है।

उसकी यही खुशी होली के त्यौहार के रूप में फूट पड़ती है। यह भी कहा जाता है कि प्राचीन काल में दैत्यराज हिरण्यकशिपु अपने पुत्र प्रहलाद को ईश्वर का नाम लेने के कारण मारने के लिए उसकी बुआ होलिका को बुलाया।

होलिका को वरदान था कि वह आग में नहीं जलेगी। वह प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठ गई भगवान की कृपा से प्रहलाद तो बच गए। परंतु होलिका जल गई।
इसी खुशी में प्रतिवर्ष होली मनाई जाती है।


होली मनाने का ढंग : होली का त्योहार क्षेत्रीय परंपराओं के अनुसार मनाया जाता है। गांव मोहल्लों में उपले लकड़ियां एकत्र करके होली रखी जाती है। होली में शुभ मुहूर्त में आग लगाई जाती है। सभी एक दूसरे पर रंग गुलाल डालते हैं। तथा आपस में गले मिलते हैं।

होली में जो एवं गेहूं की बालियां भून कर खाते हैं। तथा एक दूसरे को प्रेम सहित भेंट करते हैं। पुराने गिले शिकवे भूलकर सब एक दूसरे से गले मिलते हैं।

होली की अच्छाइयां : होली का त्योहार परस्पर प्रेम की भावना को बढ़ाता है। होली पर अमीर गरीब का भेद मिट जाता है। सभी में नया उत्साह, नई उमंग, नया जोश दिखाई देता है। सब आपस में गले मिलते हैं।

होली की बुराइयां : होली के त्यौहार के साथ कुछ बुराइयां भी जुड़ी हुई है। इस दिन कई लोग शराब भांग आदि का सेवन करते हैं। और नशे में एक दूसरे से झगड़ा भी कर लेते हैं। रंग लगाने के बहाने कीचड़ आदि भी डाल देते हैं। जिससे स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

उपसंहार : होली के त्यौहार के साथ जुड़ी यह थोड़ी सी बुराइयां यदि दूर हो जाए। तो इससे अच्छा और कोई त्यौहार नहीं है। होली पाप पर पुण्य की विजय का त्योहार है। यह मेल मिलाप एवं आपसी भाईचारे की भावना को विकसित करता है। आपस के भेदभाव भूलाकर हम सब को होली का त्योहार मनाना चाहिए।

in English :

Living the same kind of life, the living person gets bored. For this, the society has arranged for many festivals. There are people who believe in all religions in our country. Everyone has their own festivals. Holi is an important place among the main festivals of Hindus.

The reason for celebrating Holi: Holi festival is celebrated on the day of Phalguna Purnima. With the advent of spring, the atmosphere becomes beautiful around. In fields, the crops are ready to cook. The farmer is happy to see the crops.

His happiness blossoms as Holi festival. It is also said that in ancient times, Dainikaraj Hiranyakshipu called his daughter-in-law Holika to kill her son Prahlad for taking God's name.

Holika was a boon that she would not burn in the fire. He took Prahlaad in the lap and sat in the fire Prahlad escaped with God's grace. But Holika got burnt.

Holi is celebrated every year in this same happiness.

Method of Celebrating Holi: Holi festival is celebrated according to regional traditions. Holi is collected by gathering wood grown in village villages. In Holi, auspicious time is set on fire. All put color gulal on each other. And we get hugged together.

Those who eat and drink wheat earrings in Holi. And meet each other with love. After forgetting the old gila teachings, they all embrace each other.

Holi goodies: Holi festival enhances the feeling of mutual love. On Holi, the distinction of rich poor is eroded. Everyone has new excitement, new excitement, new passion. All of us meet together.

Holi's evils: Holi festival is associated with some evils. On this day many people consume alcohol, cannabis etc. And they also fight with each other in drunk. They also put mud on the pretext of putting color. It has a bad effect on health.

Epilogue: If the slightest evils associated with Holi festival are taken away. So there is no better festival than this. Holi is the festival of victory over sin. It develops the spirit of reconciliation and mutual brotherhood. By forgetting the differences between us, we should celebrate the festival of Holi.

Read also :

Read : Holi Caption for Facebook 2019

Read : Holi Caption for Instagram 2019

Read : Holi Caption 2019

Read : Caption for Holi Pictures 2019

No comments